पिता: विश्वास प्यार और सुरक्षा का

बहुत सारी छोटी चीज़े मिल कर एक बड़ी चीज़ बनाते हैं, इसी तरह बहुत सारी छोटी चीज़े मिल कर एक रिश्ता बनता है. प्यार, सुरक्षा, विश्वास, शक्ति, बल, ये सब शब्द मिल कर बनाते है एक और शब्द – पिता. आज फादर्स

होली – नए रंग नयी उमंग मेरे शहर में…..

फतेहसागर और पिछोला में  पानी की गपशप है. सहेलियों की बाड़ी में गीत मुखर हो गए है, गुलाब बाग में तरुनाई का नृत्य है, रंग चटक हो गए है. सुखाडिया सर्किल पर उम्र और जात पात की दीवारें टूट रही  है और राणा