उदयपुर और सर्दी का मौसम

winter and cold in udaipur
समूचा उत्तर भारत कड़ाके की सर्दी और शीतलहर की चपेट में है। श्रीनगर से लेकर अमृतसर, दिल्ली, हिसार, जयपुर, लखनऊ और ग्वालियर सभी जगह सर्दी का प्रकोप नाक में दम किये हुए है। वैसे उदयपुर में भी सर्दी बेहद कहर ढा रही है। अल सुबह या शाम को सूरज ढलने के बाद तो घर से निकलना गुनाह के समान हो गया है। सर्दी की इस चपेट से मैं स्वयं भी नहीं बच पाया हूँ। सर्दी खाँसी ज़ुकाम से बेहाल होने के बाद घर बैठ कर मफलर लपेट कर और रजाई में दुबक कर रिपोर्टिंग करने का सौभाग्य विरले लोगों को ही नसीब होता है।

सर्दी ने लोगो की दिनचर्या के साथ साथ उनकी बोली भी बदल दी है। प्राय शांत रहने वाले भी किट किट करते नज़र आ रहे हैं। भगवान् को सुबह शाम याद करने वाले अब तो सारा दिन ॐ नमः शिवाय का जाप करते दिखते हैं, सर्दी के मारे। कुछ तो रशियन और स्पेनिश भी बोलते दिख रहे हैं। देखते जाइये ये सर्दी अभी और क्या क्या गुल खिलाती है। माफ़ कीजियेगा कमबख्त तबियत ख़राब होने की  वजह से रुमाल की ज़रूरत आन पड़ी है। यही तो रखा था, किधर गया?

इस सर्दी ने हमारी क्रिकेट टीम को भी नहीं बक्शा, उन्होंने भी आज (06 जनवरी 2013) के मैच में  जल्दी जल्दी आउट हो कर फटाफट पवेलियन में जा कर बैठने में ही अपनी भलाई समझी। वैसे हमारे खिलाड़ियों  ने सीरीज का अंतिम मैच जीत कर भारतीय टीम के खेमे में जीत की गर्मी ला दी है। आज सर्दी से बचने का इंतज़ाम कर लिया है हमारे कप्तान धोनी ने। आपकी तैयारी भी शायद कुछ ऐसी ही होगी।

लेकिन मैं बच्चों की हरकते देख कर हैरान हूँ, चाहे सर्दी कितनी ही क्यों न पड़ रही हो उनकी खेलने कूदने की क्षमता ज्यूँ की त्यूँ बरकरार बनी हुई है। बच्चों में बड़ो के मुकाबले बहुत ऊर्जा भरी होती है, अपनी इस ऊर्जा का उपयोग उन्हें कहीं न कहीं तो करना ही होता है। उदयपुर प्रशासन ने फिलहाल आठवी कक्षा तक के बच्चों के लिए अवकाश घोषित कर दिया है और उनको इस कडकडाती ठण्ड से निजात दिलाने की चेष्टा की है। चलिए आप और मैं प्रार्थना करते हैं की सर्दी पड़े मगर इसका प्रकोप इतना न हो की बच्चों को स्कूल भेजने के लिए सोचना पड़े।

यदि उदयपुर की बात करें तो बेशक मौसम विभाग का तापमापी बिंदु 4 डिग्री सेल्सियस पर अटका हो मगर यहाँ की कई जगहों पर तापमान बर्फ जमाने की कगार तक गिर गया है। आज ही के समाचार पत्र में फतेहपुरा के निकट बाहर खड़ी  कार की तस्वीर देखी जिस पर बर्फ जमी थी। इसी तरह यूनिवर्सिटी कैंपस और गुलाब बाग़ भी बेहद ठन्डे हैं। कहिये इतने ठन्डे मौसम में ऐसी जगह घूमने का खयाल भी आपके शरीर में सिरहन पैदा करने के लिए काफी है। फिर भी आप अगर माद्दा रखते हैं, तो बेशक घूमें आखिर शहर है आपका। और अगर आपकी इस बात पर कोई टोके तो आप बेहिचक कह सकते हैं “हाँ मैं क्रेजी हूँ”

तो उदयपुर वासियों लग रहा है ग्लोबल वार्मिंग जैसे ग्लोबल कूलिंग में तब्दील हो गयी है। खैर ये जो भी हो हम पर्यावरण के प्रति सचेत हो रहे हैं और उसका असर भी हमें समय रहते आज या कल कभी न कभी दिखेगा ज़रूर। फिलहाल इतनी सर्दी के मौसम में आप अपना खयाल रखें, सावधानी बरतें और खासकर बच्चों का विशेष ध्यान रखें। वैसे सरकार सर्दी से बचाने के लिए ग़रीब लोगों के लिए रैन बसेरे बनवाती है। आप भी अपने पुराने ऊनी कपड़े इत्यादि ज़रुरात्मंदो को देकर कुछ पुण्य का कार्य कर सकते हैं। आज की सर्दी के लिए फिलहाल इतना ही। आगे की सर्दी के लिए विशेष समाचार के लेकर हम आपकी सेवा में हाज़िर रहेंगे।

किट किट किट ………..
Image Credits: Wexas.com

Comments

comments

Add Comment