संगीत व नृत्य का महाकुम्भ – 51वाँ महाराणा कुम्भा संगीत समारोह

0

maharana kumbha sangeet samaroh

हर वर्ष की भांति महाराणा कुभा संगीत परिषद् द्वारा इस वर्ष 51वाँ वार्षिक महाराणा कुम्भ संगीत समारोह दिनांक 22 फरवरी से आयोजित किया जा रहा है। समारोह का आयोजन नगर परिषद् के सुखाडिया रंगमंच पर किया जाएगा। समारोह का शुभारम्भ 22 फरवरी व समापन 24 फरवरी को होगा। सभी दिन कार्यक्रमों की शुरुआत शाम 7 बजे से होगी। समारोह के दौरान विभिन्न नृत्य व भारतीय शास्त्रीय संगीत के  कार्यक्रम प्रस्तुत किये जायेंगे। हर बार की तरह इस बार भी देश की नामी हस्तियाँ समारोह में शिरकत करेंगी व समारोह की सफलता में चार चाँद लगाएंगी।

महाराणा कुम्भा संगीत परिषद् के मानद सचिव श्री वाय एस कोठारी ने बताया कि परिषद् की स्थापना सन 1962 में की गयी थी। इसका मुख्य उद्देश्य भारतीय संगीत व नृत्य की विरासत को संजोना व इस मंच के द्वारा आम जन को कला, संगीत और नृत्य से जोड़ना है  स्थापना से लेकर आज तक महाराणा कुम्भा संगीत परिषद् में भारत की जानी मानी हस्तियाँ उदयपुर में अपनी प्रस्तुतियां दे कर दर्शकों का मन मोह चुकी हैं। साथ ही परिषद् नए उभरते कलाकारों को इस मंच के माध्यम से आगे बढ़ने का मार्ग प्रशस्त कराता है। नए कलाकारों के लिए यह बहुत उपयोगी साबित हुआ है।

कुम्भा संगीत परिषद् के कार्यकारी अध्यक्ष सज्जन सिंह राणावत, संयोजक डा पी  पी चटराज, उपाध्यक्ष प्रेम भण्डारी, डा के एन नाग, डी आई खान, कंचन सिंह हिरन, देवेन्द्र सिंह हिरन, व महादेव दमानी के परिषद् के कार्यक्रमों की जानकारी दी तथा इनकी विशेषताओं के बारे में बताया।

प्रस्तुत किये जाने वाले कार्यक्रमों की सूची

22 फरवरी – ध्रुपद गायन – श्री रमाकांत गुंदेचा व श्री उमाकांत गुंदेचा

22 फरवरी – भरतनाट्यम नृत्य – डा मल्लिका साराभाई और साथी

23 फरवरी – बांसुरी वादन – पंडित रोनू मजूमदार

23 फरवरी – ओडिसी नृत्य – डोना गांगुली और साथी

24 फरवरी – सितार वादन – श्री निलाद्री कुमार

24 फरवरी  – गायन – श्रीमती परवीन सुल्ताना व उस्ताद दिलशाद खान

समारोह में निम्न कलाकार भी मुख्य कार्यक्रम के दौरान विभिन्न वाद्यों पर संगत करेंगे – श्री अखिलेश गुंदेचा, श्री सुधीर पांडे, पंडित अनिंदो चटर्जी, श्री मुकुंद राज देव व श्रीनिवास आचार्य।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.