अब ई-रिक्शा के हवाले ‘ओल्ड सिटी’ साथियों |

वाल सिटी में अब भीड़ नज़र नहीं आए तो चौकिएगा मत । फ्राइडे से एक ड्रास्टिक चेंज हुआ है ओल्ड सिटी में अब सिर्फ RJ सीरीज़ वाली गाडियों को ही एंट्री मिलेगी । बाकियों के लिए नो एंट्री । ये पायलट प्रोजेक्ट के अंडर है, जो अभी ट्रायल मोड पर रहेगा । ये सक्सेसफुल रहता है तो इसे परमानेंट भी कर दिया जायेगा । इसका मकसद पुराने शहर में लगातार बढ़ रहे पोल्यूशन और बढ़ते गाडियों के ट्रैफिक को कम करना है ।शुरु में रंगनिवास से जगदीश मंदिर की ओर जाने वाली सड़क पायलेट प्रोजेक्ट के लिए चुनी है । इस दौरान यहाँ पर ई-रिक्शा चलेंगे जो टूरिस्ट्स को रंगनिवास से जगदीश मंदिर तक छोड़ेंगे । इसके लिए उन्हें जेब से सिर्फ 5 रुपये खर्च करने होंगे ।

फ़िलहाल ये अभी ट्रायल पर है इसलिए शुरू में 6 रिक्शा ही अवेलेबल होंगे बाद में ये नंबर बढ़ा कर 25 कर दिए जायेंगे ।

इससे एक तो भीड़-भचक्का कम होगा, ट्रैफिक का झंजट ख़त्म हो जायेगा और पोल्यूशन में भी कमी आएगी , साथ ही साथ रोजगार भी मिलेगा ।अब प्रश्न ये उठता है कि यहाँ के लोकल्स का क्या होगा ? उनकी एंट्री कैसे होगी ? तो उसका इंतज़ाम भी किया गया है लोकल्स को एक पास दिया जायेगा वो दिखाकर अपने-अपने घर को जा सकते है, वो भी अपनी सवारी के साथ । जब तक पास नहीं है तब तक एड्रेस प्रूफ चलेगा

टूरिस्ट्स भाइयों को अपने व्हीकल्स पार्क करने होंगे , उसके लिए आप या तो दूधतलाई/हेमराज व्यायामशाला पर पार्क कर सकते हो और अगर आप सुरजपोल-उदयापोल की तरफ से आते हो तो RMV स्कूल पास PWD ऑफिस के गोदाम में पार्क कर सकते हो ।

यहाँ फ्री-फ़ोकट का काम नहीं रहेगा आपको कुछ पैसे चुकाने पड़ेंगे ।

कीमतें कुछ इस प्रकार की रहेंगी :-

रिक्शा : 5 रुपये

पार्किंग :-

टू-व्हीलर – 5 रुपये (3 hrs)

फोर-व्हीलर – 10 रुपये (3 hrs)