उदयपुर के 461 वें स्थापना दिवस पर विचार गोष्ठी

उदयपुर, 11 मर्इ।सुनियोजित विकास की अनदेखी के होंगे गम्भीर परिणाम – उदयपुर के सुनियोजित विकास में अब तक हुर्इ गलतियों को सुधारा नहीं गया तो आने वाली पीढि़यां हमें क्षमा नहीं करेंगी। यह बात शनिवार को उदयपुर विचार मंच, महाराणा प्रताप वरिष्ठ नागरिक संस्थान एवं नारायण सेवा संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में उदयपुर नगर की स्थापना के 461 वें दिवस पर हिरण मगरी सेक्टर-4 के मानव मंदिर में आयोजित ”विचार-गोष्ठी में मोहनलाल सुखाडि़या विश्वविधालय के कुलपति प्रो. आर्इ.वी. त्रिवेदी ने प्रमुख अतिथि के रूप में बोलते हुए कही। उन्होंने कहा कि उदयपुर की सांस्कृतिक धरोहर और प्राकृतिक सुषमा को बचाये रखने के काम को जन आन्दोलन का रूप देना होगा। इसमें विश्वविधालय अपनी सकारात्मक भूमिका के साथ सदैव तैयार रहेगा। नगर निगम निर्माण समिति के अध्यक्ष प्रेमसिंह शक्तावत ने अध्यक्षता करते हुए कहा कि स्वतन्त्रता के बाद उदयपुर के नियोजित विकास की अनदेखी का परिणाम ही आज के उदयपुर की समस्या है।

Meeting on 461th Foundation Day of Udaipur Meeting on 461th Foundation Day of Udaipur

बेतरतीब विकास के लिए प्रशासन के साथ-साथ एक हद तक जनता भी जिम्मेदार है। अपने शहर के व्यवसिथत विकास में पूरी तरह रचनात्मक सोच के साथ आगे आना होगा। नारायण सेवा संस्थान के संस्थापक श्री कैलाश मानव ने कहा कि हमकों इस शहर ने बहुत कुछ दिया है अब बारी हमारी है। हम भी ऐसा कुछ करें कि यह ऐतिहासिक और प्राकृतिक सुषमा से आवेषिटत शहर अपने गौरव और गरिमा को कायम रखते हुए नित नया निखार पाता रहे। इससे पूर्व नारायण सेवा संस्थान की ओर से अध्यक्ष डा. प्रशान्त अग्रवाल, उदयपुर विचार मंच की ओर से चोसरलाल कच्छारा व महाराणा प्रताप वरिष्ठ नागरिक संस्थान की ओर से महासचिव श्री भंवर सेठ ने अतिथियों का स्वागत किया। कवयित्री श्रीमती रामप्यारी भटनागर ने र्इश वंदना प्रस्तुत की। विशिष्ठ अतिथि प्रो. नरपतसिंह राठौड़ ने कहा कि नदियों को मोड़ने और जोड़ने की हम आज सिर्फ बातें ही करते है जबकि यह कार्य उदयपुर के महाराणाओं ने बहुत पहले ही शुरू कर दिया था। जिसे अब आगे बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सन 1670-80 के बीच उभेश्वर नदी जो पहले छोटे और बडे मदार में जाकर गिरती थी उसे धार गांव के पशिचम में मोड़कर मोरवानी से जोड़ा गया। उन्होंने बताया कि उदयपुर बेसिन में औधोगिक इकाइयों की स्थापना से काफी नुकसान हुआ है। प्रो. एस.के. गुप्ता ने सेटेलार्इट टाउन उदयपुर के बाहर गोगुन्दा, मावली, वल्लभनगर आदि क्षेत्रों में विकसित करने और उदयपुर नगर को विश्व धरोहर की मान्यता दिये जाने पर जोर दिया। भंवरसेठ ने कहा कि इस शहर की आर्थिक धूरी पर्यटन है जिस पर पूरे सोच विचार के साथ ध्यान दिया जाना चाहिए। शहर नगर निगम बन गया है, अब इसे बी-2 श्रेणी का दर्जा भी मिलना चाहिए। दिलीपसिंह राठौड़ ने पर्यटन विकास के कुछ आधाभूत बिन्दुओं पर चर्चा की तो प्रो. सज्जनसिंह राणावत ने कहा कि उदयपुर के भविष्य को सुन्दर और सुखद बनाने के लिए इसका अतीत ही आधार हो सकता है। यहां की झीलों और हेरिटेज र्इमारतों और शहर का संरक्षण किया जाना चाहिए। समारोह के प्रमुख संयोजक श्री विष्णु शर्मा ”हितैषी ने उन समस्याओं का जिक्र किया जो शहर के अतीत को धुन्धला करने पर तुली हैं। उन्होने गोष्ठी में भाग लेने वाले अतिथियों व नागरिकों का आभार व्यक्त किया और कहा कि उदयपुर का हित चिन्तन प्रशासन के जिम्मे नहीं छोड़कर हम सब को एक राय होकर करना होगा। गोष्ठी का संयोजन श्री महिम जैने ने किया। संस्थान अध्यक्ष डा. प्रशान्त अग्रवाल व निदेशक श्रीमती वंदना अग्रवाल ने अतिथियों का मेवाड़ी पाग व उपरणा पहनाकर अभिनन्दन किया।

नारायण सेवा ने किया दानवीरों का सम्मान

 देश भर से आए अतिथियों ने लिया ”फूल होली का आनन्द”

उदयपुर 16 मार्च। नारायण सेवा संस्थान के बड़ी ग्राम सिथत सेवा महातीर्थ के आडवाणी सभागार में देश भर से नि:शुल्क आपरेशन के लिए आने वाले नि:शक्तजनों की सहायतार्थ अनुदान देने वाले भामाशाहों का स्नेह सम्मेलन में सम्मान किया गया। आरम्भ में मुख्य अतिथि श्री भंवरलाल पाली व विशेष अतिथि श्री दर्शनसिंह होशियारपुर, एस.डी. मल्होत्रा दिल्ली, प्रकाश भार्इ अहमदाबाद, श्री धू्रव प्रसाद जूनागढ़ ने दीप प्रज्ज्वलन कर भगवान नारायण के श्री चरणों में पुष्प समर्पित किये। इस अवसर पर देश भर से आने वाले अतिथियों ने संस्थापक श्री कैलाश जी मानव के सानिघ्य में होली के गीतों के साथ फूल-होली का आनंद लिया। श्री कैलाश मानव ने कहा कि संस्थान ने नि:शुल्क आपरेशन व नि:शल्त जोड़ों के नि:शुल्क सामूहिक विवाह के साथ ही पांच टे्रड में नि:शुल्क व्यावसायिक प्रशिक्षण आर्इसीआर्इसीआर्इ फाउण्डेशन के सहयोग से प्रारम्भ किये है।

Narayan_Seva_Sansthan_udaipur_UB_NEws

सभी प्रकल्पों का एक ही ध्येय है कि नि:शक्तजन अपनी सम्पूर्ण विशिष्टताओं के साथ समाज की मुख्य धारा में शामिल होकर अपने परिवार, समाज और राष्ट्र के विकास में सहभागिता का स्वप्न साकार करे।

संस्थान निदेशक श्रीमती वंदना अग्रवाल, श्री देवेन्द्र चौबीसा व श्री दल्लाराम पटेल, श्री भगवती मेनारिया ने देश के विभिन्न राज्यों से आए दानदाताओं का पाग, उपरणा, स्मृति चिन्ह व माल्यार्पण कर अभिनन्दन किया। श्रीमती अग्रवाल ने संस्थान के विभिन्न सेवा प्रकल्पों की जानकारी देते हुए बताया कि संस्थान अब तक 1.55 लाख नि:शक्तजनों के नि:शुल्क आपरेशन व 825 नि:शक्त जोड़ों के विवाह सम्पन्न करवा चुका है। बाहर से आये अतिथियों ने संस्थान के अस्पताल में भर्ती नि:शक्त जनों से भेंट के बाद निराश्रित, विमंदित व मूक-बधिर बच्चों के छात्रावास ”अपना-घर का अवलोकन किया। कार्यक्रम का संचालन श्री महिम जैन ने किया। यह जानकारी नारायण सेवा संसथान के  अध्यक्ष डॉ प्रशांत अग्रवाल ने दी ।