सीटीएई में ’टेक फेस्ट 2014: गोल्ड फियेस्टा’ का आगाज

 उदयपुर, 31 मार्च 2014 ! महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विष्वविद्यालय के संगठक, प्रौद्योगिकी एवं अभियान्त्रिकी महाविद्यालय की स्थापना के स्वर्ण जंयती वर्ष के कार्यक्रमों के अन्र्तगत 3 अप्रेल 2014 से 7 अप्रेल 2014 तक तकनीकी एवं सांस्कृतिक संगम ‘टेक फेस्ट गोल्ड फियेस्टा’ का आयोजन किया जायेगा। गोल्ड फियेस्टा 2014 मेें होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए प्रौद्योगिकी एवं अभियांत्रिकी महाविद्यालय के अधिश्ठाता डा.बी.पी.नन्दवाना ने बताया कि पिछली बार की तरह इस बार भी अभियांत्रिकी विद्यार्थियों के कल्चर मीट ईन टेक्नीकल टच ‘‘गोल्ड फियेस्टा’’ में दी जाने वाली विभिन्न प्रस्तुतियों की प्रविश्टियों का आॅनलाइन पंजीकरण किया जायेगा। छात्रों के तकनीकी कौषल को दर्षाने हेतु रोबोरेस की प्रतियोगिता का आयोजन किया जायेगा और विजेताओं को प्रमाण पत्र प्रदान कर प्रोत्साहित किया जायेगा।

College Golden Jubliee LOGO

‘गोल्ड फियेस्टा 2014’ के सफल आयोजन हेतु आठ कमेठियों का गठन किया गया है। 3 से 5 अप्रेल 2014 तक की सभी प्रतियोगिताएं एवं आॅडिषन सीटीएई में होंगे एवं मुख्य संास्कृतिक कार्यक्रम 7 अप्रेल को सुबह 9 बजे से मोहनलाल सुखाडि़या विष्वविद्यालय के सभागार में होंगे।
प्रोफेसर त्रिलोक गुप्ता, सलाहकार सीएलएसयू एवं डा. मुरतजा अली सलोदा, सहायक अधिश्ठाता छात्र कल्याण ने कार्यक्रम की जानकारी देते हुए बताया कि दिनांक 3 अप्रेल को एकल नृत्य, समूह नृत्य, एकल गायन, समूह गायन, वाद्य़यंत्र, फेषन षो, हिन्दी एवं अंग्रेजी वाद-विवाद प्रतियोगिताओं के आॅडिषन लिए जायेंगे। दिनांक 4 अप्रेल को नुक्कड़ नाटक, रोबोरेस, काउन्टर स्ट्राइक, ट्रेजर हंट, हिन्दी एवं अंग्रेजी वाद-विवाद, आषुभाशण, रंगोली, कार्टून मेकींग, ब्रेक द कोड़, काव्य पाठ प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जायेगा। 5 अप्रेल को नीड फोर स्पीड, वेब पेज डिजाईन, फोटोग्राफी, प्रष्नोत्तरी, मूवी मेनिया, एडमेड, पेपर प्रजेन्टेंषन, ब्रिज मेकिंग, मुख चित्रण और क्ले माॅडलिंग तथा 7 अप्रेल को मुख्य सांस्कृतिक कार्यक्रम में एकल गायन, एकल नृत्य, समूह नृत्य, समूह गायन, वाद्ययंत्र एवं फेषन षो आदि का आयोजन मोहनलाल सुखाडि़या विष्वविद्यालय के सभागार में किया जायेगा।
सीएलएसयू के अध्यक्ष मुकेष गुर्जर ने बताया कि प्रतियोगिताओं को लेकर सभी छात्र अत्यधिक उत्साहित है और कुषलता पूर्वक अपने तकनीकी एवं सांस्कृतिक कला कौषल को प्रदर्षित करने हेतु विभिन्न तैयारियों में जुटे हुए हैं ।