The City Angle lifestyle magazine: Monsoon Edition in stores

Human being has always tried to tame the beauty of nature in its words and preserve it in pictures. A new bookmark has been added in the pages of Udaipur a few months ago, when the City of Lakes witnessed the launch of its own city magazine The City Angle.

the city angle magazine

First of its kind, the quarterly magazine has tried to cover each and every aspect of Udaipur through its beautiful pictures and words in its 90 pages. Director Yash Sharma, calls it a pan India project and after its success in Udaipur plans to extend it to other cities too. The most beautiful part of this magazine is the variety of topics its covers from places in Udaipur to the wide range of lifestyle topics.

city angle magazine
IAS Ashutosh A.T Pednekar (District Collector, Udaipur) unveiling the first edition of The City Angle.

The first edition of magazine was published in May 2014 and launched by Shriji Arvind Singh Mewar. After the continuous hard work of The Editor, Kalpit Rajak, an IIMU student and his team comprising of writing enthusiasts from IIMs, NITs, DU and other prestigious colleges of the country along with a talented pool of local journalists, recently the Monsoon Edition of the magazine was also launched.

First Magazine of the City Angle

The edition includes a variety of topics, viz, from tourism, nutrition, beauty, culture, bollywood, sports, people of the city along with beautiful pictures of monsoon. With the motto of Refreshing Perceptions and Rejuvenating Lives, the magazine is already the talk of the city. One can grab a copy of The City Angle from:

  • Upkar Store, Panchwati
  • Cafe Brewmen, Saheli Marg

You may also order it online from the fan page or by giving a call on the number +91-9772900819 for a free home delivery.

 

Article By: Yatin Kumar

 

[Best Pictures] Jagannath Rath Yatra 2014

Every year the grand Rath-Yatra is held on the Ashaad Shukla Dwitya of Vikram Samvat, as per the Hindu calendar. On this day thousands of devotees pull the huge chariot loaded with ornaments and idols of Lord Jagannath, Balabhadra and Subhadra in a long procession.
Though the centre of attraction is Orissa, many other Indian cities also have their own extraordinary programs on this day. Udaipur holds the distinction of holding the 3rd largest Rath Yatra in India. The city has two Rath Yatras on the same day at different locations.

Jagannath_Rath_Yatra (11)

Jagannath_Rath_Yatra
idols of Lord Jagannath, Balabhadra and Subhadra in a long procession of 21km from Jagannath Dhaam, Sector 7

The Rath Yatra at Udaipur is a significant event in the entire state that is witnessed by numerous tourists both foreigners and Indians. During the Rath Yatra, The City of Lakes is colored in the most vivid hues of sheer joy & enjoyment and is flocked with devotees who wish to pay their honor to the deities and seek their blessings.

Rath from Jagannath Dham, Sector-7
The Rath Yatra started from Shri Jagannath Dham Sec-7, Hiran Magri and lead towards the Krishi Mandi, Shiv Mandir, Machla Magra, Sec-11, Patel Circle, Khanjipeer, Rang Niwas, Bhattiyani Chohatta to Jagdish Mandir. From there it merged with the Jagdish Chowk Rath Yatra in the same route and then took a separate route from RMV Road to Udiapole, Takeri, Madari, Sec-6 and returned back to the Shri Jagannath Dham of Sec-7.
Largest distance covered : 21kms

Main Attraction
The Rath Yatra that started from the ancient Jagdish Temple, near the City Palace.
The Rath, a gigantic chariot, approximately 15 feet long, 8 feet high and adorned by precious metals like silver. This eventually turned into a procession which passed through a large part of the city. The path followed by this Rath was Jagdish Mandir- Jagdish Chowk, Ghanta Ghar, Bada Bajar, Bhadbhuja Ghati, Teej Ka Chowk, Dhan Mandi, Asthal Mandir, R.M.V. Road, Rang Niwas, Kalaji- Goraji, Bhattiyani Chohatta, and Rath Yatra concluded with the Maha Arti at the Jagdish Temple.

Jagannath_Rath_Yatra (12)

DSC07334 DSC07394 DSC07348

Jagannath_Rath_Yatra (5)

Jagannath_Rath_Yatra (6) Jagannath_Rath_Yatra (10)

Jagannath_Rath_Yatra (13) Jagannath_Rath_Yatra (18) Jagannath_Rath_Yatra (15)

Jagannath_Rath_Yatra (9) Jagannath_Rath_Yatra (7) DSC07497

Jagannath_Rath_Yatra (1)

Jagannath_Rath_Yatra (22)

10294240_646746255400684_6563001963845876455_n 10457918_646746248734018_5233477957659625374_n

Jagannath_Rath_Yatra (19) Jagannath_Rath_Yatra (16) Jagannath_Rath_Yatra (17)

Jagannath_Rath_Yatra (23) Jagannath_Rath_Yatra (24)

Photo : Kamal Kumawat
Photo : Kamal Kumawat

Jagannath_Rath_Yatra (25) Jagannath_Rath_Yatra (26)Photos By : Priyansh Paliwal & Yash Sharma

 ॐ जय जगदीश !! जय जगन्नाथ !!

 

 

 

 

 

 

Pictures of Jagannath Rath Yatra 2013

Yesterday Devotees witnessed Lord Jagannath on a Rath Yatra Event. The Rath Yatra event is carried out every year with thousands of devotees waiting to take a glimpse and blessing of Lord Jagannath. Here is a set of Pictures of this huge Holy event. We hope you commemorate these Pictures and Event through your UdaipurBlog.com.

Photos By Yash Sharma

Jagganath Rath Yatra , Udaipur, 2013

“चांदी रे रथ थे  चढो रे सांवरिया.. मनमोहक कर ल्यो श्रृंगार, सांवरिया री आरती
आरती संजोयिलो, चर्मृत लेई-लो, ले लो प्रभुजी रा नाम… सांवरिया री आरती “

Jagannath Dham Sector 7 Udaipur

“मात-पिता तुम मेरे , शरण गहुँ मैं किसकी…
तुम बिन और ना दूजा, आस करूँ मैं जिसकी.. “
जय जगदीश हरे…

सेक्टर सात से निकलने वाली रथयात्रा, जो मूल रथ यात्रा में शामिल होती है, किसी भी मायने में पुरी रथयात्रा से कम नहीं होती.. प्रभु जगन्नाथ, भ्राता बलराम और बहन सुभद्रा के विग्रह पुरी की याद दिला देते है. शहर में सबसे लंबी दुरी तय करके सेक्टर सात से पुराने शहर तक का सफर तय करके तीनो भाई-बहन  जगदीश जी की रथ यात्रा की शोभा बनते है. यह रथ यात्रा सेक्टर सात से प्रातः 11 बजे प्रारंभ होती है, जो मूल रथ यात्रा के समापन के पूरे तीन-चार घंटे बाद आधी रात को पुनः अपने स्थान पर जाकर विश्राम लेती है

jagannath Dham Sector 7
Photo By : Gajendra Pancholi

Mahant Bheem Singh Chouhan | Kaali kalyani Dhaam Tej Singh Bansi at Jagannath Dham Sector 7 Udaipur Jagganath Rath Yatra UdaipurRajni Dangi in Jagannath Rath Yatra Udaipur

Gulab Chand Katariya in Jagannath Rath yatra

Janak Arts Udaipur

Jagannath Rath Yatra Udaipur Photos Jagdish Chowk - Jagannath Rath Yatra Udaipur

Jagannath Rath Yatra Udaipur | Samor bagh | Jagannath Dham Sector 7

A Heart-full of Thanks to Administration of Udaipur
A Heart-full of Thanks to Administration of Udaipur

DSC_0184 (Large)

Jai Jagdish hare | Jagannath Rath Yatra

DSC_0271 (Large)

Udaipur

Maharana Mahendra Singh Ji MewarDSC_0206 (Large) Harish Rajani , Sunrise Udaipur Jai Jagannath in UdaipurDancing devotee in jagannath Rath Yatra UdaipurJagannath Rath Yatra udaipur

DSC_0314 (Large)

Jagannath Rath Yatra Udaipur Jagannath Rath Yatra Udaipur Jagannath Rath Yatra Udaipur Jagannath Rath Yatra Udaipur Jagannath Rath Yatra Udaipur

Jagannath Rath Yatra Udaipur

[PHOTOS] Garba Beats in Udaipur

The nights filled with energy, fun, the sound of dandiyas striking each other, and colorful attires may have come to an end, but the trails of joy and happiness that those nights left us with can be still felt as if it happened yesterday.

UdaipurBlog brings you a chance to revise and relive those energetically colorful nights once again. Browse through the gallery to inhale once again what has been left behind. Enjoy the Garba Night photos 🙂

Photo Gallery :

Garba Beats in Udaipur

Garba Beats in Udaipur

Garba Beats in Udaipur

Garba Beats in Udaipur

Garba Beats in Udaipur

Garba Beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

Garba beats in Udaipur

 Man, the imperfect, the bound, the sorrowful, has a thousand enemies within. He is riddled with negative thoughts fears, yearnings. These are selfishness, jealousy, meanness, prejudice and hatred – just to mention but a few. The Sadhak must get rid of these lawless villains within. With Mother Durga’s kripa, these destructive masters are to be annihilated. Invoke the Mother Terrible to help us annihilate within ourselves all negative forces; all weaknesses, – all littleness. – Swami Chinmayananda

 

http://www.youtube.com/watch?v=thC00M2zOjo

http://www.youtube.com/watch?v=zTh6slV1V5Y

Photo Courtesy : Yash Sharma & Lakhan Sharma

लोकदेवता सगसजी – Local Deity Sagas Ji

सगसजी – Sagas Ji

sagas ji bawji udaipur

मेवाड़ – महाराणा राजसिंह (1652-1680) बड़े पराक्रमी, काव्य- रसिक और गुणीजनों के कद्रदान थे साथ ही बड़े खूखार, क्राधी तथा कठोर हृदय के भी थे। इनका जन्म 24 सितम्बर, 1629 को हुआ। इन्होंने कुल 51 वर्श की उम्र पाई। इनके आश्रय में राजप्रषस्ति, राजरत्नाकर, राजविलास एवं राजप्रकाष जैसे महत्वपूर्ण ग्रंथ लिखे गये।

राजसमंद जैसी बड़ी कलापूर्ण एवं विषाल झील का निर्माण कराने का श्रेय भी इन्ही महाराणा को है। इसकी पाल पर, पच्चीस षिलाओं पर राज – प्रषस्ति महाकाव्य उत्कीर्ण है। 24 सर्ग तथा 1106 ष्लोकों पर वाला यह देष का सबसे बड़ा काव्य-ग्रंथ है।
महाराणा राजसिंह ने मेवाड़ पर चढ़ आई, बादषाह औरंगजेब की सेना का बड़ी बहादुरी से मुकाबला किया और उसे तितर-बितर कर बुरी तरह खदेड़दी। इनके तीन पुत्र हुए। सबसे बड़े सुल्तानसिंह, फिर सगतसिंह और सबसे छोटे सरदारसिंह। इनके कुल आठ रानियां थी। सबसे छोटी विचित्रकुंवर थी। यह बीकानेर राजपरिचारकी थी।

विचित्र कुंवर बहुत सुन्दर थी। महाराणा राजसिंह ने उनके सौंदर्य की चर्चा सुनी हुई थी। अतः महाराणा द्वारा विचित्र कुंवर से षादी का प्रस्ताव भिजवाया गया। महाराणा ने प्रस्ताव अपने लिए भिवाया था किन्तु बीकानेर वाले इसे कुंवर सरदार सिंह से विवाह काप्रस्ताव समझते रहे कारण कि विचित्र कुंवर उम्र में बहुत छोटी थी। सरदारसिंह उससे मात्र तीन वर्श बड़े थे।

विवाहपरान्त विचित्र कुंवर और सरदारसिंह का सम्बन्ध माॅं – बेटे के रुप में प्रगाढ़ होता गया। अधिकांष समय दोनों का साथ- साथ व्यतीत होता। साथ – साथ भोजन करते, चैपड़ पासा खेलते और मनोविनोद करते। इससे अन्य को ईश्र्या होने लगी, फलस्वरुप महलों में उनके खिलाफ छल, प्रपंच एवं धोखा, शड़यंत्र की सुगबुगाहट षुरु हो गई। मुॅंह लगे लोग महाराणा के कान भरने लग गये।

इन मुॅंहलगों में उदिया भोई महाराणा का प्रमुख सेवक था। उसे रानी विचित्र कुवंर और राजकुमार सरदारसिंह का प्रेम फूट िआॅ।ख भी नहीं दंखा गया। वह प्रतिदिन ही उनके खिलाफ महाराणा को झूठी मूठी बातें कहकर उद्वेलित करता। कई तरह के अंट संट आरोप लगाकर उन्हें लांछित करता। यहां तक कि दोनों के बीच नाजायज संबन्ध जैसी बात कहने में भी उसने तनिक भी संकोच नहीं किया। इससे महाराणा को दोनों के प्रति सख्त नफरत हो गई।
एक दिन उदिया ने अवसर का लाभ उठाते हुए महाराणा से कहा कि अन्नदाता माॅं – बेटे की हरकतें दिन दूनी बढ़ती जा रही है। जब देखो तब हॅंसी ठट्ठा करते रहते है। साथ – साथ खेलते रमते है। साथ – साथ् भोजन करते है और साथ – साथ सो भी जाते है। यह सब राजपरिवार की मर्यादा के सर्वथा प्रतिकूल है जो असह्य है और एक दिन बदनामी का कारण सिद्ध होगा।
Sagas Ji Bavji in Udaipur मुॅंहलगे उदिया का यह कथन महाराणा राजसिंह के लिए अटूट सत्य बन गया। उन्होंने जो कुछ सुना-देखा वह उदिया के कान – आॅंख से ही सुना देखा अतः मन में बिठा लिया कि रानी और कुंवर के आपसी सम्बन्ध पवित्र नहीं है। गुस्से से भरे हुए महाराणा ने उदिया को कहा कि कुंवर को मेरे समक्ष हाजिर करो।

प्रतिदिन की तरह कुंवर ग्यारह बजे के लगभग यतिजी से तंत्र विद्या सीखकर आये ही थे। फिर भोजन किया और रानीजी के कक्ष में ही सुस्ताने लगे तब दानों को नींद आ गई। उदिया के लिए दोनों की नींद अंधे को आॅंख सिद्ध हुई। वह दोड़ा – दोड़ा महाराणा के पास गया और अर्ज किया कि रानीजी और कुंवरजी एक कक्ष में सोये हुए है, हुजूर मुलाइजा फरमा लें। उदिया महाराणा के साथ आया और रानी का वह कक्ष दिखाया जिसमें दोनों जुदा – जुदा पलंग पर पोढ़े हुए थे।

महाराणा का षक सत्य में अटल बन रहा था। उदिया बारी – बारी से पांच बार कुवंर को हजुर के समक्ष हाजिर करने भटकता रहा पर कुंवर जाग नहीं पाये थे। छठी बा रवह जब पुनः उस कक्ष में पहुॅंचा तो पता चला कि कुंवर समोर बाग हवाखोरी के लिए गये हुए है। उदिया भी वही जा पहुंचा और महाराणा का संदेष देते हुए षीघ्र ही महल पहुंचने को कहा।

कुंवर सरदारसिंह बड़े उल्लासित मन से पहुॅंचे किन्तु महाराणा के तेवर देखते ही घबरा गये और कुछ समझ नहीं पाये कि उनके प्रति ऐसी नाराजगी का क्या कारण हो सकता है। महाराणा ने कुंवर की कोई कुषलक्षेेम तक नहीं पूछी और न ही मुजरा ही झेल पाये बल्कि तत्काल ही पास में रखी लोहे की गुर्ज का उनके सिर पर वार कर दिया। एक वार के बाद दूसरा वार और किया तथा तीसरा वार गर्दन पर करते ही सरदारसिंह बुरी तरह लड़खड़ा गये।

राजमहल के षंभु निवास में यह घटना 4.20 पर घटी। यहां से कुंवर सीधे षिवचैक में जा गिरे। भगदड़ और चीख सुनकर राजपुरोहित कुलगुरु सत्यानन्द और उनकी पत्नी वृद्धदेवी दौड़े – दौड़े पहुॅंचे। कुंवर की ऐसी दषा देख दोनों हतप्रत हो गये। वृद्ध देवी ने अपनी गोद में कुंवर का सिर रखा और जल पिलाया। प्राण पखेरु खोते कुंवर ने कहा – मैं जा रहा हूॅं। पीछे से मेरी डोली न निकाली जाय। मुझे षैय्या पर ही ले जाया जाय यही हुआ। महाराणा तो चाहते भी यही थे कि उनकी दाहक्रिया भी न की जाय किन्तु कुल गुरु और गुरु पत्नी ने सोचा कि चाहे राजपरिवार से कितना ही विरोध लेना पड़े और किन्तु राजकुमार की षव यात्रा तो निकाली जाएगी।

षवयात्रा आयड़ की पुलिया पर पहुॅंची। वही पुलिया के चबूतरे पर अर्थी रखी गई । इतने में पास ही में निवास कर रहे यतिजी को किसी ने राजकुमार सरदारसिंह के नहीं रहने की सूचना दी। यतिजी को इस पर तनिक भी विष्वास नहीं हुआ कारण कि सुबह तो राजकुमार उनके पास आये थे।

यह यति चन्द्रसेन था जो बड़ा पंहुचा हुआ तांत्रिक था। इसके चमत्कार के कई किस्से जनजीवन में आज भी सुनने को मिलते है। राजकुमार भी इनसे कई प्रकार की तंत्र विद्या में पारंगत हो गये थे। यहां तक कि उन्होंने स्वयंमेव उड़ाने भरने की कला में महारत हासिल कर ली थी। दौड़े – दौड़े यतिजी वहां आये । कुंवर को अपने तंत्र बल से जीवित किया। दोनों कुछ देर चैपड़ पासा खेले। उसके बाद यतिजी बोले अब अर्थी वर्थी छोड़ो और पूर्ववत हो जाओ। इस पर राजकुमार बोले नहीं जिस दुर्गति से मैं मृत्यु को प्राप्त हुआ, अब जीना व्यर्थ है। इस पर यति ने पानी के छींटे दिये और कुंवर को मृत किया। आयड़ की महासतिया जी में राजकुमार का दाह संस्कार किया गया। कहते है कि इस घटना से राजपुराहित दंपत्ति का मन ग्लानि से भर गया और जीवित रहने की बजाय दोनों ही कुंवर की चिता में कूद पड़े।

उधर जब राजकुमार सरदारसिंह के निधन के समाचार बीकानेर की रानी विचित्र कुंवर को मिले तो वह अपने हाथ में नारियल लेकर सती हो गई।
महाराणा राजसिंह के सबसे बड़े पुत्र सुल्तानसिंह की भी हत्या की गई । यह हत्या सर्वऋतु विलास में भोजन में जहर देकर की गई। यद्यपिइ स हत्याकंाड में महाराणा की कोई भूतिका नहीं थी। किन्तु उनके षासनकाल में होने और फिर हत्या करने वालों की काई खबर खोज नहीं की गई अतः इसका पाप भी उन्ही को लगा। उनके जीवनकाल में तीसरी हत्या उनके साले अर्जुनसिंह की की गई । ये मारवाड़ के थे और गणगौर पर सवारी देखने उदयपुर आए हुए थे। इनके बहिन रतनकुंवर थी जो राणाजी से विवाहित थी। ये करीब 35 वर्श के थे। जब सर्वऋतु विलास में घूम रहे थे कि सामने आता एक इत्र बेचने वाला दिखाई दिया । वह निराषा के भाव लिए था। अर्जुनसिंह से बोला महलो में गया किन्तु निराष ही लौटा। किसी मेरा इत्र नहीं लिया। लगा यहां के राणाजी इत्र के षौकीन नहीं है ष उन्हें अच्छे इत्र की पहचान नहीं है। अर्जुनसिंह को यह बात अखरी। उसने इसे मेवाड़ राज्य का अपमान समझा। म नही मन सोचा कि अच्छा यही हो, इसके पास जितना भी इत्र है, सबका सब खरीद लिया जाय ताकि यह समझे कि जो इत्र उसके पास है वैसा तो यहां के घोड़े पसंद करते है।

यह सोच अर्जुनसिंह ने उसे इत्र दिखाने को कहा । इत्र वाला दिखाता जाता और अर्जुनसिंह उसे अपने घोड़े की असाल में उड़ेलने को कहते।
ऐसा करते करते अर्जुनसिंह ने सारा इत्र खरीदकर , मुॅंह मांगी कीमत देकर मेवाड़ के गौरव की रक्षा की। किन्तु मुॅंह लगे लोगों ने इसी बात को विपरीत गति – मति से महाराणा के सामने प्रस्तुत करते हुए कहा कि अर्जुनसिंह कौन होते है जिन्होंने इस तरह का सौदा कर मेवाड़ की इज्जत एवं आबरु को मिट्टी में मिला दी। क्या मेवाड़नाथ का खजाना खाली है जो उन्होंने अपने पैसे से इत्र खरीदकर मेवाड़ को निचा दिखाया।

महाराणा को यह बात बुरी तरह कचोट गई। पीछोला झील में गणगौर के दिन जब नाव की सवारी निकली तो बीच पानी में षराब के साथ जहर दिलाकर महाराणा ने उनका काम तमाम कर दिया। वे चलती नाव में ही लुढ़क गये और उनके प्राण पखेरु उड़ गये। ये ही अर्जुन सिंह आगे जाकर गुलाब बाग की सुप्रसिद्ध बावड़ी के निकट प्रगट हुए और सगत्जी बने।

महाराणा राजसिंह ने उपुर्यक्त तीनों हत्याओं के लिए प्रायष्चित स्वरुप राजसमंद का निर्माण कराया, ब्रह्मभोज दिया तथा गोदान कराया।

 

महंत मिट्ठा लाल चित्तोड़ा
सागर जी शक्ति पीठ . दाता भवन 21
जोगपोल मंडी की नाल , उदयपुर
दूरभाष : 9414248195  [सुशील कुमार चित्तोड़ा]

 

Sagas Ji Bavji Udaipur

Source : Pratyush

कृष्ण के विविध रंग सजे कृष्णाष्टमी पर

“नन्द के आनंद भयो, जय कन्हैया लाल की..!!”

“मुरली मनोहर श्री कृष्ण जी की जय..!!!”

कुछ ऐसे ही जयकारे आज पूरे देश ही नही अपितु पूरी दुनिया की फिज़ाओ में गुंजायमान हो रहे है जिनसे चारो ओर बस कृष्ण का ही नाम है, हर मुख पर कृष्ण की ही महिमा है, हर आँखों में कृष्ण की ही छवि है और हर कर्ण आज बस कृष्ण की मुरली की मधुर तानों को सुन रहे है… या यूँ कह ले की आज हर कोई कृष्ण के रंगों में रंगा हुआ…. और हो भी क्यों ना आज श्री कृष्ण जन्माष्टमी जो है; भादवा मास की कृष्ण पक्ष की वह मंगलमय अष्टमी  जब भगवान श्री कृष्ण देवकी और वासुदेव के नंदन के रूप में अवतारित हुए थे और उस घनघोर वर्षा वाली रात्रि में नन्द और यशोदा के घर भी अपार खुशियों की वर्षा कर दी थी…..

Jagdish_Mandir_Temple_Udaipur_Janmashtmi_2012

Shiv_Mandir_Sector_11_Udaipur_Janmashtmi_2012

कृष्ण के इन रंगों से हमारा उदयपुर कैसे अछूता रह सकता था… और जब नाथद्वारा और जगदीश मंदिर में कृष्णाष्टमी का रंग चढ़ता है तब के माहौल की छठा के तो क्या ही कहने… जगदीश मंदिर में सजी झांकी के दर्शन मध्यरात्रि में खुलते ही भक्तो का अम्बार लग गया, कान्हा के नाम के जयकारे गूंजने लगे और भगवन जगदीश की आरती कर उन्हें भोग लगाया गया और फिर भक्तो में प्रसाद बांटा गया. आज रात को दूध दही की हांड़ी को फोड़ने की प्रतियोगिता का आयोजन हुआ जिसमे सभापति रजनी डाँगी, प्रशांत अग्रवाल, हरीश राजनी  आदि अतिथि के रूप में शामिल हुए. बरसते हुए बादलों के बीच मटकी फोड़ने का आनंद दोगुना हो गया, हालांकि कुछ विलम्ब हुआ कार्यक्रम शुरू होने में पर फिर कलाकारों ने अपनी प्रस्तुतियों से वह मौजूद भक्तों का दिल जीत लिया . जगदीश चौक ॐ साईं राम ग्रुप ने झांकी सहित नृत्य प्रस्तुत किया. कृष्ण जन्मोत्सव में देश विदेश से आये  पर्यटकों ने लिया जमकर  आनंद . दीवाना ग्रुप के शाहनवाज़ [उदयपुर के बंटी] ने भजनों का ऐसा समां बंधा के वह उपस्तिथ लोग अपने आप को झूमने से नहीं रोक पाए, इन्द्र देव की कृपा बराबर भक्तों पे बनी रही उसी बीच दही हांडी फोड़ का कार्यक्रम शुरू हुआ , कुछ गीरे कुछ पड़े , फिर उठे फिर चढ़े और पूरी तरह उत्साहित होकर बार बार कोशिश की और फिर  चामुंडा ग्रुप, गोवेर्धन विलास से आई टोली  ने मटकी फोड़ी, जीतने वाले दल को Pacific University की तरफ से २१,००० रूपए नकद दिए  गए तथा ११००० रूपए का नकद पुरस्कार पंकज बोरना की तरफ से दिया गया.

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012

पालनों में विराजित सजे-धजे लड्डू गोपाल, घरों के आँगन में बने नटखट बाल कृष्ण के नन्हे नन्हे कदम और साथ में रंगीली रंगोली, बरसते गुलाल और पानी की मार की बीच दही-हांड़ी और उसको फोड़ने के लिए ग्वालों की टोलियों में मची होड़ , कृष्ण जीवन की सजीली झाँकिया, रासलीला में सजता हुआ अलग ही संसार, दूध मलाई से बने पकवानों का भोग…. कितनी जीवन्तता है इस त्यौहार में, एक अलग ही हर्षो-उल्लास उमड़ता है; ठीक वैसा ही जैसा कृष्ण जी का जीवन था – कई रंगों को अपने में समेटे हुए, जीने की अदभुत कला सीखाने वाला और हर कठिन परिस्थिति से निकलने की राह दिखाने वाला. श्री कृष्ण जी में कुछ तो था जो उन्हें सबका चहेता बना देता है, हर किसी के दिल में बसते है वे – बच्चो के शरारती साथी, देवकी और यशोदा के लाल, वासुदेव और नन्द की आँखों के तारे, राधा के प्रिय, गोपियों के माखन चोर, सुदामा के मित्र और गोकुलवासियों के मन मोहन. उनका हर रूप उनके व्यक्तित्व का आईना था, हर आईने से अलग शिक्षा मिलती है.

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012
दुर्घटना की प्रतीक्षा में

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012

Choga Lal Bhoi - Mewar Channel - Udaipur
छोगा लाल जी भोई [मेवाड़ चैनल] का सम्मान किया गया
Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012

याद है उनकी नटखट शरारते – कैसे वे माखन चुराते थे, कभी गोपियों की मटकिया फोड़ दिया करते थे तो कभी मिट्टी खाया करते थे; पर उनकी हर शरारत भी प्यारी लगती थी, गोपिया उनकी शिकायत तो किया करती थी पर साथ ही अपने घरों के दरवाज़े भी नन्दलाला के लिए खुला छोड़ दिया करती थी. इससे पता चलता है कि जब दिल साफ़ होता है तब हर गलती भी छोटी होती है. कृष्ण ने अपने बाल्यकाल में ही कई दानवो और बुरे लोगो का विनाश करा था और हमे ये सिखाया था कि विप्पत्ति चाहे कितनी भी बड़ी हो पर मन की हिम्मत से हर कठिन राह भी आसान हो जाती है. आज दोस्ती की परिभाषा बदल गयी है – फेसबुक, इन्टरनेट की बनावटी दुनिया में सखा साथी कही खो से गए है और दोस्ती में स्वार्थ, अहम् इतना बढ़ गया है कि कृष्ण-सुदामा जैसी दोस्ती जाने कहा खो गई है. अपने परिवार और नगरवासियों की मदद के लिए हमेशा तत्पर रहना, सभी का आदर सम्मान करना, हमेशा अपने हँसमुख स्वाभाव से सबको खुश रखना, आदि कई गुण थे कान्हा में. कलियुग की तथाकथित “Personality Development Classes ” से कई गुना ज्यादा सिखाता है कान्हा जी का जीवन….. जरुरत है तो बस उन्हें मन में बसाने की और उनके रंगों में रंग जाने की…

सेक्टर 11 शिव मंदिर में भी कन्हैया का जन्मोत्सव धूम धाम से मनाया गया. बाल गोपाल की झांकी बनायीं गयी, 20 सालों से चली आ रही परंपरा के अनुसार भजन संध्या का आयोजन भी  किया गया जिसमे सभापति रजनी डांगी और प्रमोद सामर ने कार्यक्रम का आनंद  लिया.

Shiv_Mandir_Triyambakeshwar_Mahadev_Udaipur_Janmashtmi_2012

Shiv_Mandir_Triyambakeshwar_Mahadev_Udaipur_Janmashtmi_2012

Shiv_Mandir_Triyambakeshwar_Mahadev_Udaipur_Janmashtmi_2012

Photos By : Yash Sharma
उदयपुरब्लॉग(UdaipurBlog.com) की ओर से सभी को जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाए…!!! जय श्री कृष्णा..!!! 🙂

 

Some More Photos by Chirag Mehta

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012_Chirag_Mehta

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012_Chirag_Mehta

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012_Chirag_Mehta

Matki_Fod_Dahi_Haandi_Udaipur_Janmashtmi_2012_Chirag_Mehta

जय श्री कृष्णा..!!!

Rainography 2012 – Monsoon finally arrives in Udaipur

It started with light rain showers when the clock ticked 1 a.m. late night; this series of rain showers continued till late evening today. After such a long wait we can finally say that monsoon has arrived, fulfilling the aspirations of the broken hearts which had left the hopes of Rain. To capture this beauty of Rain, I went down in the City to start with my Monsoon Photography Collection for UdaipurBlog – RainoGraphy 2012. 🙂 Do like, share and comment… 😉

 

Rainography_2012_Yash_Sharma

Rainography_2012_Yash_Sharma

Rainography_2012_Yash_Sharma

Rainography_2012_Yash_Sharma

Rainography_2012_Yash_Sharma

Rainography_2012_Yash_Sharma

Rainography_2012_Yash_Sharma

Rainography_2012_Yash_Sharma

Rainography_2012_Yash_Sharma

Rainography_2012_Yash_Sharma

Rainography_2012_Yash_Sharma

Rainography_2012_Yash_Sharma

Rainography_2012_Yash_Sharma

Rainography 2012 _ Udaipur

Rainography_2012_Yash_Sharma

Rainography_2012_Yash_Sharma

 

Just For Updates :-

It rained around : 25mm in Udaipur City, 175mm in Banswara, Dungarpur – 102mm, Jhadol – 9mm, Gogunda – 10mm, Sagwara – 188mm, Madar Bada – 6mm, Swaroopsagar – 19mm, Udaisagar – 16mm, Nai – 4mm, Kherwara – 40mm, Jaisamand – 69mm, Salumber – 62mm

 

Readers Clicks :

Sector 4 area, behind BSNL Office.

 

Sector 4 area, behind BSNL Office.

 

Sector 4 area, behind BSNL Office.

 

Photos by : Vikas Sharma

——-

Parag Pancholi - Lake Palace

Photo by : Parag Pancholi

 

If you have captured any Photos of Rain and want to display them here on UdaipurBlog.com then Email them on info@udaipurblog.com

Art of Living Guru Poornima celebrations in Udaipur

Guru

The Art of Living Guru Poornima celebrations took place in Udaipur. Many people gathered for a wonderful week of music and meditation, silence and celebration, fun and food, dance of devotion and much more. July 3 was the day of Guru Poornima, a day that holds special significance for the spiritual seeker to pay tribute to the teachers.

Hindus attach paramount importance to the Spiritual Gurus. Gurus are often equated with God and always regarded as a link between the individual and the immortal. Just as the moon shines by reflecting the light of the sun, and glorifies it, all disciples can dazzle like the moon by gaining from their Gurus. ‘Guru’ in India, holds a supreme significance. Guru is a person with revered personality, who by his teachings enlightens us. He introduces us to the vast world of knowledge and shuns our ignorance.

 

Anand_Desai_Ji_Udaipur_Sahaj_Samadhi_Guru_Poornima_Satsang

His Holiness Sri Sri Ravi Shankar on the significance of Guru – Poornima

Among the 12-13 full moons in a year the vaishakha full moon is dedicated to Buddha (his birth and enlightenment), jyeshtha full moon to mother earth and the aashadha full moon is dedicated to the memory of masters. This is Guru-Poornima.

A prominent Art of Living teacher, Mr. Anand Desai mentored by His Holiness Sri Sri Ravi Shankarji, is in Udaipur for few days for the Sahaj Samadhi Meditation course. It is pleasure of the people of Udaipur that they are getting chance to learn from a such a dynamic teacher who lives his knowledge.

He said, “Meditation is relaxing and reposing in that atom. So, think of all the things that you could be grateful for, and ask what you want. And bless everybody. We receive, but not just receiving is enough, we should give and bless those who are in need. ”

 

Anand_Desai_Ji_Udaipur_Sahaj_Samadhi_Guru_Poornima_Satsang

Anand_Desai_Ji_Udaipur_Sahaj_Samadhi_Guru_Poornima_Satsang

 

Hundreds of people gathered to attend the Guru Poornima Satsang by Anand Bhaiya at the Gujrati Dharamshala in Sector 11. Anand Bhaiya, alongwith the members of Art of Living mesmerized the audience with Bhajans like Satchidananda Nanda Guru Om , Jay Jaya Radha Ramana, Krishna Govind Gopala.

On the occasion of Guru Poornima,  Art of Living, Udaipur launched a website devoted to Sri Sri Ravi Shankar Ji. –
http://jaigurudev.me/

Features: Online Radio of Art Of Living, Applications for Android, I-Phones & Blackberry, etc

http://www.youtube.com/watch?v=PO5WszlVxuc&feature=youtu.be

http://www.youtube.com/watch?v=2aKNrXCq4Y4

Best Photos of the Week

Best Photograph This Week

Hey Guys,

Udaipur being the most beautiful city of the World has made people of Udaipur to be Artistic in Photography and to highlight this talent of photography and bringing the skills of all the Photographers/People of Udaipur on a Single Platform. We announce a new Section on our Site: ‘Photos of The Week‘.

We will be collecting Photographs from ‘You’ and will be sharing them here on our Website: UdaipurBlog.com on every Monday

 

Advantages of Submitting your Photographs:

  • UdaipurBlog.com is among One of the most famous site of Udaipur which is regularly visited by a lot of people from Udaipur and around the World. This is the best medium to reach this huge mass and show your skills.
  • All of your photos remain on our website forever and we will be crediting your information with your Photographs so that people can contact you if they like your pictures and skills.
  • Your Photographs will be seen by many fellow and professional photographers so this will be a good way for you to let them know your talent.
  • The photographs liked by us will be Framed and Gifted to you and will be featured on UdaipurBlog.com.
  • By submitting your photographs you get a chance to win more exciting prizes.

 

Rules to Submit your Photographs:

  • Email your photograph(s) on : info@udaipurblog.com (Max. 2 Photographs a Week)
  • In your Email include: Your Name*/ Phone No.* / About You* / Photograph Location* / Photograph Details(Settings) in the Email. {Fields with * mark are necessary to be submitted in order to qualify your photographs to be featured on UdaipurBlog.com}

Contact Us for More Details(Participants):

  • Yash Sharma : +91-9462623445
  • Mujtaba R.G. : +91-9784185414

Sponsor this Best Photos of the Week Contest(For Companies):

If you think this contest will be a good way to promote your Brand, Increase your presence among people than you are absolutely Correct… !! Contact us on : +91-9929067498(Sanjit Chohan) and we will help guide you… !!

———–

SO GUYS WHAT ARE YOU WAITING FOR … Mauka bhi hei and platform bhi… Come Participate… 🙂

श्री श्री रवि शंकर के आगमन पूर्व शहर में सत्संग

आर्ट ऑफ लिविंग के प्रणेता श्रीश्री रविशंकर  शुक्रवार को उदयपुर आएंगे। गुरु के आगमन पर बड़ी संख्या में शिष्य और अनुयायी अगवानी करेंगे। उनके सान्निध्य में 10 मार्च को शाम 06:30 बजे से B.N. College Ground में महासत्संग होगा।  महासत्संग में 80 हजार से ज्यादा लोग शामिल होंगे। आर्ट ऑफ लिविंग बैंगलुरु से आई प्रशिक्षिका ममता ने बताया कि सत्संग के साथ श्री श्री रविशंकर जिज्ञासुओं के प्रश्नों के उत्तर भी देंगे।
श्री श्री रवि शंकर कहते हैं कि सांस शरीर और मन के बीच एक कड़ी की तरह है जो दोनों को जोड़ती है। इसे मन को शांत करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। वे इस बात पर भी जोर देते हैं कि ध्यान के अलावा दूसरे लोगों की सेवा भी इंसान का करनी चाहिए। वे विज्ञान और आध्यात्म को एक-दूसरे का विरोधी नहीं, बल्कि पूरक मानते हैं। वे एक ऐसी दुनिया बनाने का प्रयत्न कर रहे हैं जिसमें रहने वाले लोग ज्ञान से परिपूर्ण हो ताकि वे तनाव और हिंसा से दूर रह सकें।

sri-sri-ravi-shankar-Udaipur

 श्रीश्री के आगमन के पूर्व शहर में सत्व की जागृति के लिए नियमित रूप से अलग-अलग स्थानों पर सत्संग संध्याओं का आयोजन किया जा रहा है ।

Art of Living | Udaipur
सेक्टर-7 स्थित जगन्नाथ धाम में सत्संग

Videos :