fbpx
udaipur
Photo By: Kayak

मिठाइयाँ बांटो – दुनिया के सबसे अच्छे शहरों में उदयपुर को तीसरा स्थान


अब तो ऐसी ख़बरों की उदयपुर वालों को आदत हो गयी है। फिर भी बधाइयाँ तो बनती है। इसके हक़दार हैं हम सभी उदयपुरवाले। Travel & Leisure, एक ट्रेवल मैगज़ीन है जो हर साल दुनिया भर के शहरों का सर्वे करती है और उनमें से चुनिन्दा शहरों की रैंकिंग हम तक पहुँचाती है। इस बार T+L (Travel & Leisure) ने दुनिया के टॉप 15 शहरों की रैंकिंग निकली है। इसमें उस शहर का कल्चर, आसपास की स्थिति, खाने-पीने से लेकर शौपिंग तक यानि की ओवरआल वैल्यू को परखा जाता है। ये सभी 15 शहर दुनिया भर से उठाये हैं जिसमें उदयपुर ने बाजी मारकर 3rd रैंक हासिल की है. यह मैगज़ीन अपने रीडर्स से वोटिंग करवाती है।

ये वही मैगज़ीन जिसनें उदयपुर को 2009 में दुनिया का सबसे बेहतरीन शहर घोषित किया था। इस बार भी टॉप फिफ्टीन में इंडिया से सिर्फ़ उदयपुर का ही नाम आया है। दिल्ली और मुंबई जैसे टूरिस्ट डेस्टिनेशन भी पीछे छूट गए हैं।

Sheesh Mahal overlooking Lake Pichola
Photo By: The Leela Palace

उदयपुर न सिर्फ़ यहाँ पर बने पैलेस, होटल्स, म्यूजियम और आर्किटेक्चर की वजह से फेमस है इन सबके अलावा प्राकृतिक रूप से भी उदयपुर धनवान है।

MMCF के चेयरमैन और मैनेजिंग ट्रस्टी, श्रीजी अरविन्द सिंह जी मेवाड़ का कहना है कि, “ये सभी शहरवासियों के लिए गर्व की बात है। मैं सभी गवर्मेंट एजेंसी और टूरिज्म डिपार्टमेंट को बधाई देना चाहता हूँ जिनके लगातार प्रयासों से उदयपुर इस मुकाम को हासिल कर पाया है।”

udaipur
Photo Courtesy: Trvl-media

हर साल बढ़ते टूरिस्ट इस बात की गवाही देते है कि वाक़ई उदयपुर ये मुकाम हासिल करने योग्य है। उदयपुर न सिर्फ़ देसी यहाँ तक की विदेशी पर्यटकों की पहली चॉइस बनता जा रहा है। इस बात का सबूत  है ये आंकड़े :-

सन् 2017 में मई  महीने तक कुल देसी पर्यटकों की संख्या 2,74,742 थी वहीँ 2018 में बढ़कर 3,11,442 हो गई। अगर विदेशी पर्यटकों की बात की जाए तो लगभग 89,000 के मुकाबले सन् 2018 में लगभग 96,000 विदेशी पर्यटक अब तक उदयपुर घूमने आ चुके हैं।

udaipur
Photo Courtesy: d1ljaggyrdca1l

इनके पीछे कई कारण है जैसे झीलों का भरे रहना, टूरिस्ट डिपार्टमेंट और गवर्मेंट का लगातार इस सेक्शन पर फोकस्ड रहना। सिटी पैलेस म्यूजियम का खुद आगे चल कर इनिशिएटिव लेना, म्यूजियम कल्चर को बढ़ावा देना वगैरा-वगैरा।

लेकिन अब जिम्मेदारी बढ़ जाती है। इतने से खुश होने वाली बात नहीं है। सुधार की गुंजाइश हमेशा बनी रहती है। हमारी और आपकी कोशिश यही रहेगी कि सन् 2009 का इतिहास दुबारा दोहराया जाए। 🙂

T+L की रैंकिंग देखने के लिए इस लिंक को क्लिक कर सकते है :- https://www.travelandleisure.com/worlds-best/cities#palace-and-lake-pichola-udaipur-rajasthan-india-03

 News Courtesy: NDTV Beeps

Facebook Comments

Like it? Share with your friends!

Shubham Ameta

Theatre Practitioner Documentary Writer Blogger

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *