Menu
News

उदयपुर की नए साल से उम्मीदें

नया साल लग गया है और हर नए साल की तरह इस बार उमीदें भी नई है। 2021 में क्या कुछ नहीं देखा हमने: लोकडाउन, कोरोना का बहुत ही भयानक रूप और कुम्हारों के भट्टे का ट्रैफिक। इसी बीच 2022 के पहले हफ्ते में जिस तरह से कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है वो भी चिंताजनक है।

अब इस नए साल में सारी परेशानियों और एक तेज़ी से फैलते वायरस के बीच में लेकसिटी विकास की उम्मीद में है। आइए जानते है 2022 के उन प्रोजेक्ट्स के बारे में जिनसे उदयपुर विकास की ओर अग्रसर होगा।

नए टर्मिनल भवन से अन्तरराष्ट्रीय उड़ानों की आस

महाराणा प्रताप एयरपोर्ट पर इस साल अगर नया टर्मिनल भवन शुरू हुआ तो यहाँ से अन्तरराष्ट्रीय उड़ानों की शुरुआत हो सकेगी। नया टर्मिनल भवन मौजूदा टर्मिनल से 3 गुना बड़ा होगा। इसमें 6 एयरोब्रिज बनेंगे। वहीं, टर्मिनल-2 बनने से एयरपोर्ट पर स्थायी रूप से कस्टम और इमीग्रेशन काउंटर खुलेंगे। जहाँ उदयपुर में हर साल पर्यटकों की संख्या बढ़ रही है वहीं उदयपुर एयरपोर्ट में नयी कार्गो सुविधाएं शुरू हो चुकी है। ऐसे में देश-दुनिया से जोड़ने के लिए यहाँ अन्तरराष्ट्रीय उड़ने भी अगर शुरू हो जाती है तो उदयपुर देश की नंबर-1 टूरिस्ट सिटी भी बन सकता है।

एडवेंचर स्पोर्ट्स होगा पर्यटन का आकर्षण

2021 में उदयपुर में रिकॉर्ड तोड़ पर्यटक आए और नए वर्ष में भी रिकार्ड्स टूटने की पूरी संभावना। साथ ही फतेहसागर झील के किनारे एडवेंचर एक्टिविटीज़ भी शुरू होने की संभावना है। यह एडवेंचर स्पोर्ट्स पर्यटकों के लिए के नया आकर्षण होगा। इसमें बंजी जंपिंग और स्काई साइकिल जैसी एडवेंचर एक्टिविटीज़ होंगी।

क्रिकेट स्टेडियम का शुरू हो निर्माण

कानपुर खेड़ा में अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम के लिए ज़मीन आवंटन के बाद अब वहां स्टेडियम के निर्माण पर काम होना है। इसको लेकर कवायद भी शुरू हुई है लेकिन नव वर्ष में उम्मीद है की इस पर काम शुरू कर स्टेडियम तैयार हो जाए।

नीमच माता तक रोप-वे

फतेहसागर से देवली छोर होकर रोप-वे बनाने की तैयारी चल रही है, जिससे सीधे नीमच माता मंदिर तक पहुंचा जा सकेगा। इसके लाइसेंस प्रक्रिया के लिए कलेक्टर ने आपत्तियां भी मांग ली हैं। लाइसेंस के बाद अगली प्रक्रिया शुरू होगी।

दो नए फ्लाईओवर होंगे तैयार

सेवाश्रम और कुम्हारों का भत्ता फ्लाईओवर जिससे सबसे ज़्यादा वाहनों की आवाजाही में तकलीफ हो रही है, वो 2022 में पूरा बन के तैयार हो जाएगा। वो बनने के बाद देहलीगेट चौराहा के फ्लाईओवर के प्रस्ताव पर भी काम शुरू होगा जो वह होने वाले जाम से मुक्ति दिलाएगा।

आयड़ को संवारने का सपना

आयड़ नदी को संवारने के लिए सालों से प्लान बन रहा है, लेकिन अभी तक यह साकार नहीं हुआ है। प्रोजेक्ट को साकार करने के लिए जनप्रतिनिधियों व अफसरों को काम कर 2022 में परिणाम देने चाहिए जिससे इस साल आयड़ नदी की नई तस्वीर सामने आएगी।

चिकित्सा और मेडिकल के क्षेत्र में विस्तार विकास

उदयपुर मेडिकल हब के रूप में विकसित हो चूका है। यहाँ 6 मेडिकल कॉलेज हैं, जो की प्रदेश में सर्वाधिक है। अब यहाँ मरीज़ों को उच्च स्तरीय सुविधाएं प्राप्त हो उसके लिए नव वर्ष में विस्तार और विकास की ज़रूरत है। मेडिकल का कन्वेंशन सेंटर तैयार होना चाहिए, जिसमे एक साथ पांच से दस हज़ार लोगो को बैठने की व्यवस्था हो, वहीं यहाँ उनके आवास व अन्य सुविधाएं भी उसी परिसर में उपलब्ध हो। संक्रामक रोग अस्पताल व अनुसन्धान केंद्र अलग से होना ज़रूरी है ताकि कोरोना जैसी महामारी में अन्य मरीज़ों का उपचार प्रभावित ना हो।

इस साल बर्ड पार्क शुरू होगा

इस साल गुलाबबाग में बर्ड पार्क की शुरुआत होगी। पार्क में अभी तक 7 पिंजरे तैयार हो चुके है, जिसमे 5 पिंजरों में विभिन्न प्रकार के तोते होंगे। एक पिंजरे में मकाऊ, ककाऊ पक्षी होंगे। एक में बर्ड्स ऑफ़ प्रे व ग्रीन मुनिया होंगी। पहले से ही सज्जनगढ़ बायोलॉजिकल पार्क से 7 एमु लाकर छोड़ दिए है। साथ ही उल्लू सहित अन्य पक्षियों के पिंजरे बनाए जा रहे है। पिंजरों पर रंग का काम पूरा हो गया है। अब बस बर्ड पार्क खुलने की देर है।

उम्मीद है की ये सभी सौगाते साल ख़त्म होने से पहले हमारे शहर को मिलेंगी। इन्ही उम्मीदों के साथ एक और चाह है की हम सब कोरोना की गाइडलाइन्स की सही से पलना करे और विकास और उम्मीद की गाड़ी को आगे बढ़ने दें।

No Comments

    Leave a Reply